By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

अलग राह लेने की तैयारी में हैं तेजस्वी के सहयोगी! ‘मांझी’, शरद, मुकेश, कुशवाहा’ की होटल में मीटिंग’

;

- sponsored -

बिहार के पूर्व सीएम और हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी और उनकी पार्टी लगातार यह कहते रही है हम वैसे राजनीतिक गठबंधन के निर्माण की तैयारी में हैं जहां सभी सहयोगियों को सम्मान मिले। सवाल है कि क्या जीतन राम मांझी ने यह तैयारी शुरू कर दी है?

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

अलग राह लेने की तैयारी में हैं तेजस्वी के सहयोगी! ‘मांझी’, शरद, मुकेश, कुशवाहा’ की होटल में मीटिंग’

सिटी पोस्ट लाइवः बिहार के पूर्व सीएम और हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी और उनकी पार्टी लगातार यह कहते रही है हम वैसे राजनीतिक गठबंधन के निर्माण की तैयारी में हैं जहां सभी सहयोगियों को सम्मान मिले। सवाल है कि क्या जीतन राम मांझी ने यह तैयारी शुरू कर दी है? यह सवाल इसलिए है कि आज महागठबध्ंान की एक मीटिंग हुई है जिसमें बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी, रालोसपा के उपेन्द्र कुशवाहा, वीआईपी पार्टी के मुकेश सहनी और शरद यादव की मुलाकात हुई है। इस मुलाकात के मायने यही निकाले जा रहे हैं कि महागठबध्ंान के ये सहयोगी अलग राह लेने की तैयारी में हंै। आरजेडी नेता शरद यादव की अगुवाई में आज महागठबंधन की पार्टियों ने एक मीटिंग की है.

इस मीटिंग में रालोसपा चीफ उपेन्द्र कुशवाहा, हम पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व सीएम जीतन राम मांझी, वीआईपी के मुखिया मुकेश सहनी ने आज शरद यादव से मुलाकात की.सबसे अहम बात है कि शरद यादव की इस मीटिंग में आरजेडी और कांग्रेस के कोई नेता शामिल नहीं हुए. कांग्रेस और आरजेडी ने शरद की होटल में बैठक से दूरी बना ली. महागठबंधन की पार्टियां लगतार तेजस्वी के नेतृत्व में विधानसभा का चुनाव लड़ने से बचते दिख रही हैं.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

मांझी ने तो कई बार साफ तौर पर तेजस्वी के अनुभव पर भी सवाल उठाया है. वहीं उपेन्द्र कुशवाहा को भी कई मोर्चे पर तेजस्वी का साथ नहीं मिला है.जेडीयू से निकाले जाने के बाद शरद यादव ने अपनी अलग पार्टी बनाई थी, लेकिन लोकसभा में जाने की चाह को लेकर लालू दरबार में हाजिरी लगाने के बाद वो लालटेन के सिंबल पर चुनाव लड़े. चुनाव में करारी शिकस्त मिलने के बाद शरद यादव ने बिहार से दूरी बना ली लेकिन विधानसभा का आगामी चुनाव देखते हुए एक बार फिर से शरद यादव एक्टिव दिख रहे हैं.

;

-sponsored-

Comments are closed.