City Post Live
NEWS 24x7

DSP को धमकाने वाला पूर्व MLC छूट गया बेटा गिरफ्तार.

पटना के थाने में घुसकर की थी धक्का-मुक्की, कहा था- वर्दी उतरवा दूंगा लेकिन नहीं हुई कोई करवाई.

-sponsored-

-sponsored-

- Sponsored -

सिटी पोस्ट लाइव :महागठबंधन सरकार की छवि को सबसे बड़ी चुनौती महागठबंधन के नेताओं और कार्यकर्ताओं से मिल रही है.पीरबहोर थाने पर RJD के पूर्व विधान पार्षद अनवर अली के पार्षद बेटे सरफराज ने जमकर बवाल काटा.अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ थाने पहुँच गया.खूब रॉब झाडा.इतना ही नहीं उसके पिता भी थाने पहुँच गए. सत्ता के मद में चूर बाप बेटे ने पुलिस अधिकारियों की बखिया उधेड़ दी.थानेदार से लेकर डीएसपी तक को भी नहीं बख्शा.

गौरतलब है कि पुलिस पर गुरुवार रात हमले के आरोप में स्थानीय दुकानदार सरफराज को पकड़ने से नाराज वार्ड नंबर 40 के पार्षद असफर अहमद ने शुक्रवार रात थाने में घुसकर डीएसपी और थानेदार से धक्कामुक्की की और धमकी दी.विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया.तब जाकर मामले में देर रात वार्ड पार्षद और दुकानदार को गिरफ्तार कर लिया गया. लेकिन वार्ड पार्षद के पिता व पूर्व एमएलसी अनवर अहमद को छोड़ दिया गया.अगर विडियो वायरल नहीं होता तो शायद पुलिस को बाप बेटे के खिलाफ कारवाई का कोई मौका ही नहीं मिलता.

जाना चाहिए था बेटे के साथ जेल लेकिन पूर्व MLC छोड़ दिए गए.फिर क्या था थाना से बाहर निकलते ही पूर्व एमएलसी ने अपने बवाल को मामूली बातचीत करार दे दिया.उन्होंने मीडिया के सवाल पर कहा कि अंदर बस गपशप हो रहा था. बेटे पर एफआईआर के सवाल पर कहा कि आरोप तो लगते रहता है. एफआईआर हुआ है, ठीक है.इससे पहले सरफराज को पकड़कर ले जाने की सूचना मिलने पर वार्ड पार्षद पीरबहोर थाने पहुंचे. उस वक्त टाउन डीएसपी अशोक कुमार और थानेदार सबीह उल हक मौजूद थे. कुछ देर के बाद पार्षद वहां से चले गए और सरफराज की बेटी व अन्य लोगों को लेकर लौटे. उसके बाद पार्षद ने डीएसपी और थानेदार को वर्दी उतरवा देने की धमकी दी. चर्चा है कि उसने एक अधिकारी की वर्दी पर हाथ भी लगा दिया। धक्कामुक्की भी की.

टाउन डीएसपी अशोक सिंह ने मीडिया को बताया कि सरफराज को पूछताछ के लिए लाया गया था. असफर पहुंचे तो कहा गया कि जांच करके छोड़ देंगे पर पुलिस से उलझ गए. उनके पिता पूर्व एमएलसी अनवर अहमद भी पहुंचे थे। वो जोर-जोर से हल्ला कर रहे . 5000 लोगों को इक्कठा कर इस मामले को दूसरा रंग देने की धमकी दे रहे थे. फिर भी जांच के बाद उन्हें फिलहाल छोड़ दिया गया है.डीएसपी ने बताया कि पार्षद और दुकानदार को गिरफ्तार कर लिया गया है. दोनों पर सरकारी काम में बाधा डालने, दंगा फैलाने की धमकी देने, पुलिस के साथ धक्कामुक्की आदि धाराओं के केस दर्ज किया गया है.

इधर, असफर और दुकानदार सरफराज के गिरफ्तार होने के बाद सैकड़ों लोग पीरबहोर थाने के सामने सड़क पर उतर गए. लोगों के तेवर को देख थाने के मेन गेट को बंद करना पड़ा. चार थानों की पुलिस भी पहुंच गई. लोगों ने थाने के पास ही सड़क जाम कर दी और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करने लगे. आसपास की दुकानों के शटर धड़ाधड़ गिर गए.दरअसल,गुरुवार रात पटना मार्केंट के पास एक मकान में किसी के हथियार लेकर होने की सूचना के बाद पुलिस वहां गई थी. इसी बीच अशोक राजपथ पर पुलिस ने दो को शक के आधार पर पकड़ा था. भीड़ ने दोनों को छुड़ाने के साथ दो पुलिसकर्मियों पर हमला कर घायल कर दिया था.

-sponsored-

- Sponsored -

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news, updates and special offers delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time

- Sponsored -

Comments are closed.