By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

JDU में RCP सिंह की जगह लेंगे उपेन्द्र कुशवाहा! JDU की चिट्‌ठी से हटा राष्ट्रीय अध्यक्ष का नाम

HTML Code here
;

- sponsored -

LJP के बाद अब JDU में भी घमाशान शुरू हो चुका है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री रामचंद्र प्रसाद सिंह (RCP सिंह) और संसदीय दल के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा के बीच शुरू से ही जारी खींचतान अब सामने आ चुकी है.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : LJP के बाद अब JDU में भी घमाशान शुरू हो चुका है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री रामचंद्र प्रसाद सिंह (RCP सिंह) और संसदीय दल के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा के बीच शुरू से ही जारी खींचतान अब सामने आ चुकी है. JDU ने 10 जुलाई को एक चिट्ठी जारी की, जिसमें लिखा गया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्र सरकार के मंत्री आरसीपी सिंह 18 जुलाई को बैठक करेंगे. बैठक वर्चुअल होगी। सुबह 11 बजे से होने वाली इस मीटिंग में सभी प्रदेश पदाधिकारियों को ऑनलाइन आने की हिदायत दी गई थी. इसमें आरसीपी सिंह के संबोधन को मुख्य रूप से लिखा गया था. इस बैठक को लेकर जब उपेंद्र कुशवाहा से पूछा गया था कि क्या वह शामिल होंगे? इस पर उपेंद्र कुशवाहा ने अपनी बिहार यात्रा का हवाला देकर कहा कि वह उस दिन औरंगाबाद में रहेंगे.

फिर, 15 जुलाई को JDU ने एक और चिट्ठी निकाली. इस चिट्ठी को संशोधित तौर पर जारी किया. इसको इतना संशोधित किया गया कि उस चिट्ठी में से ऑनलाइन तो हटाया ही गया, आरसीपी सिंह का भी नाम हटा दिया. इस चिट्टी के जारी होने के बाद चर्चा है कि उपेंद्र कुशवाहा मीटिंग में शामिल होंगे. अब वो अपनी बिहार यात्रा के उस दिन के कार्यक्रम को रद्द कर रहे हैं. JDU के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा के अनुसार इस मीटिंग में सभी वरीय नेता शामिल होंगे. संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा और राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह भी शामिल होंगे. पहले ये बैठक ऑनलाइन होनी थी, अब ये बैठक सबकी उपस्थिति के साथ होगी. सभी नेता JDU कार्यालय में होने वाली बैठक में शामिल होंगे.

आरसीपी सिंह और उपेंद्र कुशवाहा के बीच जारी खींचतान अब सामने आ गई है.. लोग सवाल पूछ रहे हैं कि दूसरी चिट्ठी निकालने की जरूरत क्यों पड़ी? उपेंद्र कुशवाहा की शर्तों पर पार्टी ने ऑनलाइन बैठक कैंसिल कर दिया. अब बताया जा रहा कि केवल आरसीपी सिंह ही बैठक में वर्चुअल शामिल होंगे. जो दूसरी चिट्ठी जारी कि गई उसमें किसी भी नेता के संबोधन का जिक्र नहीं किया गया है. ऐसे में तय हो गया कि JDU के अंदर सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है.

;
HTML Code here

-sponsored-

Comments are closed.