By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

महाशिव रात्रि पर राशि के अनुसार भोलेनाथ के पूजन से पूरी होगीं मनोकामनायें.

HTML Code here
;

- sponsored -

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी यानी एक मार्च को महाशिवरात्रि का पर्व है. इस दिन पूजा, व्रत, साधना, मंत्रजाप करने और रात्रि जागरण का विशेष महत्व है. राशि अनुसार शिव का पूजन करने से भक्त को विशेष फल मिलता है. इससे ग्रहों की पीड़ा दूर होती है. पाप ग्रहों को अनुकूल बनाने और कमजोर ग्रहों को बलवान बनाने राशि के अनुसार शिवजी को प्रसन्ना करने के उपाय करने से भक्त की मनोकामनाएं पूर्णण होती हैं. दूषित ग्रह भी शुभ होकर अच्छे फल देने लगते हैं.

मेष-इस राशि के जातक महाशिवरात्रि पर पूजा के दौरान शिवजी को लाल चंदन लगाकर लाल रंग के पुष्प और आंकड़े का पुष्प अर्पित करें,वृषभ-वृषभ राशि के जातक पूजा के दौरान भगवान शिव का चमेली के फूल अर्पित करें. साथ ही शिव रुद्राष्टक का पाठ करना आपके लिए शुभ रहेगा.मिथुन-जातक भगवान शिव को तीन बेलपत्र, धतूरा, भांग अर्पित कर पूजा करें.कर्क-जातक को शिवलिंग का अभिषेक भांग मिश्रित दूध, चावल व चंदन से करें. रुद्रष्टाध्यायी का पाठ कष्टों का हरण करता है।.

सिंह: जातकों को कनेर के लाल रंग के पुष्प भगवान को चढ़ाने चाहिए। घी का दीपक जला कर शिव चालीसा का पाठ करना चाहिए.कन्या: कन्या राशि के जातक बेलपत्र, धतूरा, भांग आदि सामग्री शिवलिंग पर अर्पित करें और पंचाक्षरी मंत्र का जाप करें तो उनकी सारी मनोकामनायें पूरी होगीं.तुला: तुला राशि के जातक माखन मिश्री युक्त दूध से शिवलिंग का अभिषेक और शिव के सहस्त्रनामों का जाप करना चाहिए.वृश्चिक: वृश्चिक राशि जातक भोलेनाथ की पूजा गुलाब के फूलों व बीलपत्र की जड़ से करें. रुद्राष्टक का पाठ करने से राशि के अनुसार सौभाग्यशाली परिणाम मिलेंगे.

धनु: जातक शिव की पूजा पीले रंग के फूलों से करें. प्रसाद के रूप में खीर का भोग लगाएं.मकर: धतूरा, भांग, अष्टगंधा आदि से भगवान शिव की पूजा करें.कुंभ: कुंभ राशि के जातकों को गन्नो के रस से शिवलिंग का अभिषेक करना चाहिए. धन लाभ पाने के लिए शिवाष्टक का पाठ भी करना चाहिए.मीन: पंचामृत, दही, दूध एवं पीले रंग के फूल शिवलिंग पर अर्पित करें. पंचाक्षरी मंत्र ओम नम: शिवाय का चंदन की माला से 108 बार जाप करें.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.