By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

एक्सक्लूसिव इंटरव्यूः ‘नीतीश को नहीं बदलना चाहिए था स्टैंड, खुद को बड़का नेता बुझते हैं पप्पू यादव’

- sponsored -

पूर्व केन्द्रीय मंत्री और जेडीयू नेता नागमणि ने संकेत दिये हैं कि वे कोई अलग राह ले सकते हैं। नागमणि ने कुशवाहा समाज को वाजिब हिस्सेदारी नहीं दिये जाने पर अपनी नाराजगी जतायी है इसके साथ हैं धारा 370 पर पार्टी के स्टैंड पर भी उन्होंने अपनी असहमति जतायी है।

-sponsored-

एक्सक्लूसिव इंटरव्यूः ‘नीतीश को नहीं बदलना चाहिए था स्टैंड, खुद को बड़का नेता बुझते हैं पप्पू यादव’

सिटी पोस्ट लाइवः पूर्व केन्द्रीय मंत्री और जेडीयू नेता नागमणि ने संकेत दिये हैं कि वे कोई अलग राह ले सकते हैं। नागमणि ने कुशवाहा समाज को वाजिब हिस्सेदारी नहीं दिये जाने पर अपनी नाराजगी जतायी है इसके साथ हैं धारा 370 पर पार्टी के स्टैंड पर भी उन्होंने अपनी असहमति जतायी है। सिटी पोस्ट लाइव से एक्सक्लूसिव बातचीत में नागमणि ने कहा कि 1994 में पहली बार आजादी के बाद कुशवाहा सम्मेलन कराया था।

1995 के विधानसभा चुनाव में 30 विधायक कुशवाहा समाज से जीतकर आए। लालू यादव की सरकार में कुशवाहा समाज के 7 विधायकों को मंत्री बनाया गया। लेकिन आज कुशवाहा समाज को कुछ नहीं मिलता। लालू यादव की सरकार में जो 7 मंत्री बनाये गये थे उनका वजूद था लेकिन आज की सरकार में जो मंत्री हैं वो एक मास्टर तक का ट्रांसफर नहीं करा सकते। अजीब स्थिति है। अभी मैं जेडीयू में हूं। 29 फरवरी 2020 में पटना के गांधी मैदान में कोयरी सम्मेलन करेंगे उसकी तैयारी के लिए 30 सितम्बर को बिहार राज्य पंचायती परिषद के हाॅल में स्वागत समिति की बैठक करेंगे जिसमें बिहार के तमाम जिलों से लोग जुटेंगे।

Also Read

-sponsored-

1 दिसम्बर 2019 से पूरे बिहार का तूफानी दौरा करेंगे। वहीं धारा 370 पर जेडीयू के स्टैंड को लेकर नागमणि ने कहा कि पार्टी का स्टैंड जो पहले था वहीं होना चाहिए था। नीतीश कुमार को धारा 370 के विरोध पर कायम होना चाहिए था। काफी बड़े बड़े विद्वान नीतीश कुमार के साथ हैं इसलिए अब जो पार्टी का स्टैंड है वहीं हमारा स्टैंड है। उपेन्द्र कुशवाहा पर हमलावर होते हुए उन्होंने कहा कि उपेन्द्र कुशवाहा अब बिहार की राजनीति में कोई फैक्टर नहीं हैं। अगर उपेन्द्र कुशवाहा का नाम लेता हूं तो उनकी पाॅपुलैरिटी बढ़ेगी। जन अधिकार पार्टी के संरक्षक पूर्व सांसद पप्पू यादव पर निशाना साधते हुए नागमणि ने कहा कि पप्पू यादव मेहनती हैं लेकिन वे अपने आपको बहुत बड़ा नेता समझते हैं जबकि वे बड़े नेता हैं नहीं। नेता बनने के लिए बड़ा दिल चाहिए, सबको साथ लेकर चलने वाला नेता होता है लेकिन बिहार में उनकी जो पहचान बनी है वो सब जानते हैं।

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.