By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

सृजन कश्यप ने किया पूरे देश-विदेश भर में नाम रौशन, श्रीलंका में जोहर कप तक का तय किया सफर

Above Post Content

- sponsored -

मधुबनी जिले के जयनगर अनुमंडल मुख्यालय के आर्यकुमार पुस्तकालय रोड स्थित एडवोकेट चंदेश्वर यादव का पुत्र सृजन कश्यप ने भारत अंडर-14 के कटेगरी में सेलेक्ट होकर जोहर कप खेलने को श्रीलंका के कोलंबो गए और वहां फाइनल तक का सफर तय किया.

Below Featured Image

-sponsored-

सृजन कश्यप ने किया पूरे देश-विदेश भर में नाम रौशन, श्रीलंका में जोहर कप तक का तय किया सफर

सिटी पोस्ट लाइव : मधुबनी जिले के जयनगर अनुमंडल मुख्यालय के आर्यकुमार पुस्तकालय रोड स्थित एडवोकेट चंदेश्वर यादव का पुत्र सृजन कश्यप ने भारत अंडर-14 के कटेगरी में सेलेक्ट होकर जोहर कप खेलने को श्रीलंका के कोलंबो गए और वहां फाइनल तक का सफर तय किया. इस दौरान पूरे टूर्नामेंट में अपने टीम के तरफ से टॉप स्कोरर भी रहे. जानकारी देते हुए खुद सृजन ने बताया कि यहां इतने छोटे से जगह में भी संसाधनों के अभाव में भी उन्होंने अपने दृढ़ निश्चय और मेहनत के साथ अपने कोच कृष्णनंद प्रतिहस्त एवं पंकज ब्रेट ली से क्रिकेट के गुर सीखे और पूरी मेहनत के साथ जी-जान लगा कर इंडिया अंडर-14टीम के लिए सेलेक्ट हुए.

इस सेलेक्शन प्रक्रिया के दौरान उन्होंने पटना, धर्मशाला में प्रक्रिया में भाग लिया और सेलेक्शन मापदंड पर 16.1 पॉइंट के साथ खड़े उतरे. आपको बता दें कि टीम इंडिया के कैप्टन विराट कोहली का यह स्कोर 22 था, और सृजन इसमे 16.1 स्कोर किये हैं. इसके बाद उनको फाइनली टीम इंडिया अंडर-14 में ओपनर बैट्समैन कप्तान के रूप में चयनित कर श्रीलंका में जोहर कप खेलने को भेजा गया. पूरे जोहर कप में एक मैच सिर्फ हरे वो भी उनका लीग मैच था, और फाइनल में आके उनको हार का सामना करना पड़ा.
वापस अपने घर जयनगर आने पर उनके घर बधाई देने वालों का तांता लगा रहता है.

Also Read

-sponsored-

जानकारी देते हुए सृजन ने बताया कि अभी अगले महीने एक फ्रेंडली मैच खेलने के लिए उनको भूटान आमंत्रित किया गया है, जिसमे वो शिरकत करेंगें. कौन है सृजन? आर्यकुमार पुस्तकालय रोड इस्तिथ अधिवक्ता चंदेश्वर प्रशाद यादव के प्रथम पुत्र हैं. इस साल उन्हें 10वीं बोर्ड की परीक्षा भी देनी है. जानकारी देते हुए इनके पिता और माता ने बताया कि हमारा पूरा सपोर्ट हैं सृजन को वो चाहे तो क्रिकेट को ही अपना कैरियर बना सकता है. फिलहाल जो भी हो सृजन ने देश ही नही विदेश में भी अपना और अपने माता पिता का नाम रोशन कर दिया है, उम्मीद है जल्द ही इनका भारतीय टीम में भी सेलेक्शन हो जाएगा.\

मधुबनी से सुमित कुमार की रिपोर्ट

Below Post Content Slide 4

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.