By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

इंडोनेशिया में आयोजित रग्बी खेल प्रतियोगिता में सिल्वर मेडल जीत लौटी नालंदा की बेटी

- sponsored -

इंडोनेशिया में आयोजित रग्बी खेल प्रतियोगिता में भारत के लिए सिल्वर मेडल जीत कर भारत लौटी नालंदा की बेटी श्वेता शाही का नालंदा के सांसद कौशलेंद्र कुमार ने बिहार शरीफ में स्वागत किया | 

-sponsored-

इंडोनेशिया में आयोजित रग्बी खेल प्रतियोगिता में सिल्वर मेडल जीत लौटी नालंदा की बेटी

सिटी पोस्ट लाइव : इंडोनेशिया में आयोजित रग्बी खेल प्रतियोगिता में भारत के लिए सिल्वर मेडल जीत कर भारत लौटी नालंदा की बेटी श्वेता शाही का नालंदा के सांसद कौशलेंद्र कुमार ने बिहार शरीफ में स्वागत किया |  इस मौके पर सांसद कौशलेंद्र कुमार ने कहा कि श्वेता शाही  नालंदा की बेटी है और इस पर न केबल नालंदा के लोगों को गर्व है बल्कि पूरे बिहार के लिए यह गौरव की बात है | उन्होंने कहा  नालंदा  की बेटी देश ही नहीं बल्कि विदेश स्तर पर भी भारत का परचम फहरा रही  है | उन्होंने श्वेता शाही  को हरसंभव सहयोग देने का वादा किया | हम आपको बता दें कि पिछले दिनों  पहलीवार देश को संवेंथ एशियन अंडर 18 गर्ल्स रग्बी चम्पियनशीप में पदक दिलाने में अहम भूमिका निभाने वाली नालंदा की बेटी श्वेता शाही को राज्य सरकार ने सम्मानित किया था।

पटना के खेल परिसर में  उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी एवं कला संस्कृति एवं युवाविभाग के मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि ने मंच से हीं  श्वेता शाही के खाते में साढ़े बारह लाख रूपए  ट्रांस्फर किया था । उसके बाद उसे प्रशस्तिपत्र के साथ पदक देकर सम्मानित किया।श्वेता ने दुबई में आयोजित सेवेंथ एशियन अंडर 18 गर्ल्सरग्बी की टीम ने कास्य पदक जीत कर बिहार के साथ नालंदा का मान बढ़ाया था। इस टुर्नामेंट में श्रीलंका, उजबेकिस्तान,काजकिस्तान, हांगकांग, यूएई, चाइना, पाकिस्तान एवंभारत समेत आठ टीमों ने भाग लिया था। 30 नवंबर से 2 दिसंबर तक आयोजित उद्घाटन मैच में भारत ने उजबेकिस्तान को 19-05, यूएई को 33-00 एवं श्रीलंका को24-0 से हराकर तीसरा स्थान पाया था और अब इसने इंडोनेशिया में आयोजित रग्बी खेल प्रतियोगिता में भारत के लिए सिल्वर मेडल जीता है |

Also Read

-sponsored-

श्वेता नालंदा जिले के सिलाव प्रखंड के भदारी गांव की रहने वाली है। गांव में खेल का मैदान नहीं है। इसके बाबजूद जोश व जुनून से लबरेज श्वेता ने अपना खेल खेतों से शुरूकिया। सबसे पहले उसका चयन 2012 में बिहार रग्बी की टीम में हुआ। यह टूर्नामेंट उड़ीसा में हुआ था। इसके बाद तो श्वेता को मानों सफलता के पंख लग गये। चेन्नई में एशियन रग्बी सेवन-ए साइड ओलंपिक प्री क्वालिफायर प्रतियोगिता में काजकिस्तान में बेहतर प्रदर्शन कर अपनी जगह पक्की कर ली। इतना हीं नहीं नालंदा की इस बेटी ने 2015 में महिला दिवस पर 60वीं राष्ट्रीय स्कूल गेम्स में अपने लाजबाव प्रदर्शन से स्वर्ण पदक दिलाया था। इस टूर्नामेंट में उसे बेस्ट प्लेयर का अवार्ड भी मिला था।

नालंदा से प्रणय राज की रिपोर्ट

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.