By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

बिहार बोर्ड का फैसला,अब परीक्षा में दिये जायगें वस्तुनिष्ठ सवालों के विकल्प

- sponsored -

बिहार विधालय परीक्षा समिती मैट्रिक और इंटर के परीक्षार्थियों के हित के लिए लगातार प्रयास कर रही है. वह पुराने पैटर्न से पूछे जानेवाले प्रश्नों को बदलकर नये पैटर्न ला रही है. अब बिहार बोर्ड नये नियमों के अनुसार मैट्रिक और इंटर के परीक्षार्थियों को वस्तुनिष्ठ प्रश्नों के विकल्प भी देगा. यह बदलाव 2020 से ही लागू होनेवाला है.बोर्ड के नये नियम के अनुसार वर्ष 2020 की मैट्रिक और इंटर परीक्षाओं में वस्तुनिष्ठ सवालों के भी विकल्प दिए जाएंगे.

-sponsored-

बिहार बोर्ड का फैसला,अब परीक्षा में दिये जायगें वस्तुनिष्ठ सवालों के विकल्प

सिटी पोस्ट लाइव- बिहार विधालय परीक्षा समिती मैट्रिक और इंटर के परीक्षार्थियों के हित के लिए लगातार प्रयास कर रही है. वह पुराने पैटर्न से पूछे जानेवाले प्रश्नों को बदलकर नये पैटर्न ला रही है. अब बिहार बोर्ड नये नियमों के अनुसार मैट्रिक और इंटर के परीक्षार्थियों को वस्तुनिष्ठ प्रश्नों के विकल्प भी देगा. यह बदलाव 2020 से ही लागू होनेवाला है.बोर्ड के नये नियम के अनुसार वर्ष 2020 की मैट्रिक और इंटर परीक्षाओं में वस्तुनिष्ठ सवालों के भी विकल्प दिए जाएंगे. अभी बोर्ड की ओर से 100 अंकों की परीक्षा में 50 अंक के वस्तुनिष्ठ सवाल पूछे जाते हैं. 50 अंकों के वस्तुनिष्ठ सवालों के लिए कोई विकल्प नहीं मुहैया कराए जाते थे, लेकिन अब विकल्प उपलब्ध होंगे.

बता दें कि 50 अंकों की परीक्षा के लिए 60 प्रश्न पूछे जाएंगे. इसमें किसी 50 सवालों के जवाब छात्रों को देने होंगे. देश में पहली बार ऐसी पहल की गई है. बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि छात्रों को बड़ी राहत देते हुए वस्तुनिष्ठ सवालों में विकल्प मुहैया कराने का निर्णय लिया गया है. बोर्ड के अनुसार वस्तुनिष्ठ सवालों में 20 फीसद की वृद्धि की जाएगी लेकिन अंकों में कोई बढ़ोतरी नहीं होगी.

Also Read

-sponsored-

जिस विषय में अब तक 25 सवाल पूछे जाते थे, उसमें अब 30, जिसमें 35 प्रश्न पूछे जाते थे, उसमें अब 42 और जिसमें 50 प्रश्न पूछे जाते थे, उसमें 60 प्रश्न पूछे जाएंगे. बोर्ड के नये नियम के अनुसार अगर कोई परीक्षार्थी सभी वस्तुनिष्ठ प्रश्नों का उत्तर दे देता है, तो ऊपर से 50 सवाल ही सही माने जाएंगे. इस परीक्षा के पैटर्न से माना जा रहा है कि परीक्षार्थियों को काफी अच्छे मार्क्स आएँगे. क्योंकि पहले छात्र विकल्प के अभाव में सभी प्रश्नों के उतर नहीं दे पाते थें.अक्सर बिहार बोर्ड के परीक्षार्थियों का यह आरोप भी रहता था की सीबीएसई छात्रों को अधिक मार्क्स बिहार बोर्ड के छात्रों की तुलना में आते हैं.
                                                                                                                                  जे.पी.चंद्रा की रिपोर्ट

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.