By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

उच्च माध्यमिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापक पद के लिए BPSC ने निकाली वेकेंसी.

HTML Code here
;

- sponsored -

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव :उच्च माध्यमिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापक पद के लिए इच्छुक लोगों का इंतज़ार अब ख़त्म होनेवाला है. BPSC ने राज्‍य सरकार के उच्‍च माध्‍यमिक विद्यालयों में 6421 पदों पर प्रधानाध्‍यापक के पदों पर बहाली से जुड़ा विज्ञापन निकाल दिया है. प्रधानाध्यापकों के लिए 35 हजार रुपए वेतनमान निर्धारित किया गया है. राज्‍य सरकार अन्य भत्‍तों का भुगतान भी करेगी. बिहार लोक सेवा आयोग ने शुक्रवार को इससे जुड़ी अधिसूचना जारी कर दी.

BPSC की ओर से 64421 पदों पर नियुक्ति के लिए ऑनलाइन आवेदन शनिवार से लेना शुरू हो जाएगा.आयोग की वेबसाइट www.bpsc.bih.nic.in पर पा सकते हैं. 28 मार्च तक ऑनलाइन आवेदन किया जा सकता है. BPSC के संयुक्त सचिव सह परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार ने भास्कर को बताया कि आवेदन के लिए मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से 50 प्रतिशत अंकों के साथ पीजी उत्तीर्ण होना आवश्यक है. एससी-एसटी, ईबीसी, बीसी, दिव्यांग, महिला और आर्थिक रूप से कमजोर अभ्यर्थियों को पांच प्रतिशत की छूट दी गई है. अभ्यर्थियों को मान्यता प्राप्त संस्थान से बीएड/ बीएएड/ बीएससी एड पास होने के साथ ही 2012 या उसके बाद शिक्षक पात्रता परीक्षा में क्वालीफाई होना भी आवश्यक है. मौलाना मजहरूल हक अरबी एवं फारसी विश्वविद्यालय, पटना, बिहार राज्य मदरसा शिक्षा बोर्ड की ओर से दी जाने वाली फाजिल की डिग्री और कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय की आचार्य की डिग्री को पीजी के बराबर माना जाएगा.

प्रधानाध्यापक के पद पर आवेदन के लिए न्यूनतम अनुभव सीमा राज्य सरकार के विद्यालय में पंचायती राज संस्था और नगर निकाय के अधीन माध्यमिक शिक्षक पद पर न्यूनतम 10 वर्ष की सेवा, सीबीएसई, आइसीएसई, बीएसईबी से स्थायी संबद्धता प्राप्त विद्यालय में माध्यमिक शिक्षक के पद पर न्यूनतम 12 वर्ष की लगातार सेवा का अनुभव आवश्यक है. राज्य सरकार के विद्यालय में पंचायती राज संस्था और नगर निकाय के तहत उच्च माध्यमिक शिक्षक के पद पर न्यूनतम 8 वर्ष की सेवा देने वाले और सीबीएसई, आइसीएसई, बीएसईबी से स्थायी संबद्धता प्राप्त विद्यालय में उच्च माध्यमिक शिक्षक के पद पर न्यनूतम आठ वर्ष की लगातार सेवा का अनुभव आवश्यक है. अनुभव संबंधित सभी प्रमाण पत्र 28 मार्च, 2022 के पहले का होना चाहिए.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

पंचायत और नगर निकाय के अधीन कार्यरत शिक्षक के लिए न्यूनतम और अधिकतम आयु सीमा अलग से निर्धारित नहीं होगी. सीबीएसई, आइसीएसई, बीएसईबी से संबद्धता प्राप्त विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों के लिए एक अगस्त, 2021 को न्यूनतम आयु 31 वर्ष व अधिकतम 47 वर्ष होनी चाहिए. आरक्षित श्रेणी में सरकार के प्रावधान के अनुसार छूट दी जाएगी. सेवानिवृत्त होने के लिए 60 वर्ष की आयु सीमा तय की गई है. कार्मिक और प्रशासनिक सुधार विभाग के निर्देश के आलोक में भूतपूर्व सैनिकों को उम्र सीमा में तीन वर्ष और प्रतिरक्षा सेवा में बताई गई सेवा अवधि के योग के बराबर छूट दी जाएगी. इसके लिए वास्तविक उम्र आवेदन की तिथि को 53 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए.

कोटि कुल पद महिला आरक्षण सामान्य 2571 903 ईडब्ल्यूएस 639 189 अनुसूचित जाति 1027 385 अनुसूचित जनजाति 66 20 अत्यंत पिछड़ा वर्ग 1157 426 पिछड़ा वर्ग 769 256 पिछड़ा वर्ग की महिलाएं 192 00.दिव्यांगों के लिए भी चार प्रतिशत सीट रिजर्व दृष्टि बाधित 67 मूक बधिर 65 अस्थि दिव्यांग 63 मनोविकार 62 महिलाओं के लिए 2179 सीटें रिजर्व (35 फीसदी)महिलाओं को 35 फीसदी क्षैतिज आरक्षण का लाभ बता दें कि महिलाओं को 35 फीसदी आरक्षण का लाभ दिया जाएगा. यह क्षैतिज आरक्षण होगा. यानी कुल सीटों में 2179 सीटें महिलाओं के लिए रिजर्व होंगी। स्वतंत्रता सेनानी के पोता- पोती, नाती- नतिनी के लिए कुल पदों का दो फीसदी रिजर्वेशन होगा। यानी 128 सीटें इनके लिए रिजर्व होंगी.

लिखित परीक्षा में 150 प्रश्न पूछे जाएंगे. सामान्य अध्ययन से 100 और बीएड कोर्स से 50 अंक के सवाल पूछे जाएंगे. परीक्षा ओएमआर शीट पर होगी. हर एक सवाल के लिए एक अंक मिलेंगे जबकि 0.25 अंक गलत उत्तर देने पर कटेंगे. प्रश्न का उत्तर नहीं दिए जाने पर कोई अंक नहीं दिया जाएगा। यह लिखित परीक्षा दो घंटे की ली जाएगी. लिखित परीक्षा में सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों को 40 प्रतिशत, पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों के लिए 36.5 प्रतिशत, अत्यंत पिछड़ा वर्ग के उम्मीदवारों को 34 प्रतिशत और एससी-एसटी, महिलाओं व दिव्यांग उम्मीदवारों के लिए 32 प्रतिशत न्यूनतम क्वालिफाई अंक है.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.