By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

बिहार में हाई-स्कूल और प्लस-2 शिक्षकों के भर्ती के लिए विभाग ने निकाला शिड्यूल

;

- sponsored -

सिटी पोस्ट लाइव- शिक्षकों के वेतनमान संबंधी फैसला सुप्रीम कोर्ट से आते ही नियुक्ति प्रकिया शुरू हो गई है.अब बिहार सरकार ने शिकाश्कों के बहाली से सम्बन्धित शिड्यूल जारी कर दिया है. यह शिड्यूल सीएम् नीतीश कुमार द्वारा समीक्षा बैठक के महज 48 घंटे के बाद ही विभाग द्वारा जारी कर दिया गया है. सरकार द्वारा पहले फेज में हाई स्कूल और प्लस 2 स्कूलों में शिक्षक बहाली का शिड्यूल जारी किया गया है.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

बिहार में हाई-स्कूल और प्लस-2 शिक्षकों के भर्ती के लिए विभाग ने निकाला शिड्यूल

सिटी पोस्ट लाइव- शिक्षकों के वेतनमान संबंधी फैसला सुप्रीम कोर्ट से आते ही नियुक्ति प्रकिया शुरू हो गई है.अब बिहार सरकार ने शिकाश्कों के बहाली से सम्बन्धित शिड्यूल जारी कर दिया है. यह शिड्यूल सीएम् नीतीश कुमार द्वारा समीक्षा बैठक के महज 48 घंटे के बाद ही विभाग द्वारा जारी कर दिया गया है. सरकार द्वारा पहले फेज में हाई स्कूल और प्लस 2 स्कूलों में शिक्षक बहाली का शिड्यूल जारी किया गया है.

बता दें कि कोर्ट में मामला जाने की वजह से 5वें चरण की बहाली पर रोक लगी हुई थी, जिसे अब जारी किया गया है. इसके तहत अब नियोजन इकाई पूर्व के अभ्यर्थियों की सूची जारी करेगा. 14 जून तक मेधा सूची के अंतिम प्रकाशन का निर्देश दिया गया है साथ ही 17 जून से अभ्यर्थियों के कागजात की जांच होगी. 24 जून को मेरिट लिस्ट यानि मेधा सूची का अनुमोदन होगा, जिसके बाद 25 जून को मेधा सूची का सार्वजनीकरण होगा, वहीं 28 जून से 29 जून तक नियोजन पत्र निर्गत करने का निर्देश दिया गया है. शिक्षा विभाग के प्रवक्ता अमित कुमार ने बताया कि तय तिथि तक नियोजन का आदेश दिया गया है.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

मालूम हो कि मात्र कुछ दिन पहले ही बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में पटना के संवाद भवन में शिक्षा विभाग की अहम बैठक हुई थी. इस बैठक में उन्होंने विभाग के कामकाज की समीक्षा की थी और कई महत्वपूर्ण निर्णय भी लिए. बैठक खत्म होने के बाद शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने मीडिया को जानकारी देते हुए कहा था कि हाई स्कूलों में 32 हजार पद खाली हैं जिनके लिए नियोजित शिक्षक बहाल होंगे जो 60 साल तक काम करेंगे. इसी के साथ कम्प्यूटर शिक्षकों की सरकार बहाली करेगी. मुख्यमंत्री के आदेश से TET और STET सर्टिफिकेट की वैधता अब खत्म नहीं होगी. ये सभी सर्टिफिकेट वैध रहेंगे.

बता दें कि TET-STET के अभ्यर्थी 2011 से परिक्षा पास होकर बैठे हैं लेकिन पांच चरणों के बाद भी उनका सम्पूर्ण नियोजन सरकार नहीं कर रही. वैसे भी बिहार में शिक्षको के कई हजार पद रिक्त हैं लेकिन सरकार इनकी बहाली नहीं कर रही है.जिससे शिक्षा व्यवस्था की गुणवता पर काफी प्रभाव पड़ रहा है.
जे.पी.चंद्रा की रिपोर्ट

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.