By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

STET उतीर्ण अभ्यर्थियों के लिए शेड्यूल जारी,शिक्षकों के 35 से 40 हजार पदों पर होगी नियुक्ति 

;

- sponsored -

लम्बे समय से शिक्षक बनने की आस लागाये बैठे STET पास अभ्यर्थियों के लिए खुशखबरी है. अब शिक्षा विभाग लम्बे वक्त से खाली पड़े शिक्षकों के पदों को भरने के लिए नियुक्ति प्रक्रिया का शेड्यूल जारी कर दिया है. इस शेड्यूल के अनुसार छठे चरण की नियुक्ति प्रक्रिया 29 जुलाई से शुरू होगी

-sponsored-

-sponsored-

STET उतीर्ण अभ्यर्थियों के लिए शेड्यूल जारी,शिक्षकों के 35 से 40 हजार पदों पर होगी नियुक्ति 

सिटी पोस्ट लाइव- लम्बे समय से शिक्षक बनने की आस लागाये बैठे STET पास अभ्यर्थियों के लिए खुशखबरी है. अब शिक्षा विभाग लम्बे वक्त से खाली पड़े शिक्षकों के पदों को भरने के लिए नियुक्ति प्रक्रिया का शेड्यूल जारी कर दिया है. इस शेड्यूल के अनुसार छठे चरण की नियुक्ति प्रक्रिया 29 जुलाई से शुरू होगी. इस नियोजन की प्रकिया के तहत हाई स्कूल और प्लस टू के 35 से 40 हजार पदों को भरा जाएगा.

बता दें कि इसमें वे सभी कैंडिडेट पात्र होंगे जिन्होंने राज्य शिक्षक पात्रता परीक्षा (STET) 2012 पास की थी और जिनके उत्तीर्णता प्रमाण पत्र की अवधि जून 2019 में समाप्त हो गयी थी. बता दें कि बिहार सरकार ने इसे जून 2021 तक बढ़ा दिया था. इसके लिए आवेदन 27 अगस्त से मिलेंगे और यह 26 सितंबर तक जमा किया जा सकेंगे. इसके बाद विभिन्न प्रक्रियाओं से गुजरते हुए नियोजन इकाइयों द्वारा 29 नवम्बर को नियुक्ति पत्र बांटे जाएंगे.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

शिक्षा विभाग से जारी आदेश के अनुसार 29 जुलाई तक जिलें नियोजनवार रिक्त पदों की गणना करेंगे. 3 अगस्त को राज्यस्तरीय नियोजन प्रशिक्षण होगा. जिलास्तर पर कर्मियों के लिए यह ट्रेनिंग 6 अगस्त को होगा. 9 अगस्त को जिलावार रिक्त पदों के रोस्टर पंजी तैयार होंगे. 16 अगस्त को आरडीडीई के स्तर पर रोस्टर क्लियरेंस होगा. 21 अगस्त को जिला कोटिवार व विषयवार रिक्ति की सूचना नियोजन इकाइयों को भेजेंगे. 26 अगस्त को नियोजन इकाइयां विषयवार रिक्ति की सूचना प्रकाशित करेंगे.

इस नियुक्ति में महिलाओं को 35 प्रतिशत का आरक्षण मिलेगा. शेष आरक्षण सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा निर्गत अधिसूचनाओं के अनुरूप है. बता दें कि इस नियोजन के लिए निम्न योग्यता निर्धारित की गई है. जो हाई स्कूल शिक्षक बनना चाहते हैं उनके पास स्नातक, बीएड एवं एससीईटी-1 उत्तीर्ण होना चाहिए. जबकि प्लस टू स्कूलों में पढ़ाने के लिए अभ्यर्थियों को स्नातकोत्तर, बीएड, एवं एसटीईटी-2 उत्तीर्ण होना चाहिए. लेकिन संगीत, नृत्य, ललितकला, कम्प्यूटर, शारीरिक शिक्षक बनने के लिए बीएड होना जरूरी नहीं है .संबंधित विषयों में प्रशिक्षण की डिग्री वांछित है.

वहीं इस रिक्ति के विरूद्ध नियोजन के लिए उम्र सीमा न्यूनतम 21 वर्ष निर्धारित की गई है. दिव्यांग और बीएड प्रशिक्षित को 10 वर्ष की छूट. संगीत शिक्षक के लिए जिनकी उम्र सीमा के अधीन 2012 एसटीईटी के समय थी, उनके लिए छठे चरण में भी अधिकतम उम्रसीमा की यह छूट लागू की गयी है. लेकिन इस छठे चरण के नियोजन के लिए कुछ ध्यान देनेवाली बाते भी हैं. सभी जिलों से जो रिक्तियों की मांग की गई है वह 31 दिसम्बर 2018 तक की माँगी गई है. इस नियोजन में 1000 में से चौथे एवं पांचवें चरण में रिक्त रह गये कम्प्यूटर शिक्षकों के पदों पर भी नियुक्ति होगी.

प्लस टू के वाणिज्य स्ट्रीम में केवल एमबीए डिग्रीधारी नियुक्त नहीं होंगे. इसके लिए एम कॉम एवं बीएड होना अनिवार्य है. इंजीनियरिंग से स्नातक जिसमें विज्ञान और गणित की विशेषज्ञता हो और बीएड एवं एसटीईटी उत्तीर्ण हों, गणित विषय में माध्यमिक शिक्षक के पद पर नियोजित हो सकते हैं.

मालूम हो कि STET पास अभ्यर्थी 2012 से परीक्षा उतीर्ण होकर बैठे हैं. लेकिन उनका नियोजन अभी तक नहीं हुआ है. इसे लेकर अभ्यर्थियों ने कई बार शिक्षा मंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक गुहार लगाई थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट में वेतनमान का हवाला देकर सरकार इसे टाल दे रही थी. स्टेट पास अभ्यर्थियों के अध्यक्ष धनंजय कुमार एवं संरक्षक आदित्य नारायण पाण्डेय ने कहा कि शेड्यूल जारी करने के लिए सरकार को धन्यवाद देते हैं लेकिंन बहाली केंद्रीकृत किया जाय ताकी अधिक से अधिक अभ्यर्थियों का नियोजन हो सके.                                                                                                                               जे.पी.चंद्रा की रिपोर्ट

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.