By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

रोहतास : शांति प्रसाद जैन कॉलेज परिसर में बीसीए के छात्र-छात्राओं ने दिया धरना

रजिस्ट्रेशन न होने से नाराज हैं छात्र, कॉलेज को दिया पांच दिन का अल्टीमेटम

- sponsored -

सासाराम स्थित शांति प्रसाद जैन कॉलेज के बीसीए विभाग के छात्र-छात्राओं का समय से रजिस्ट्रेशन ना होने के कारण सभी लोग काफी नाराज हैं। कॉमर्स के छात्र-छात्राओं का बीसीए में नही हो रहा रेजिस्ट्रेशन, सत्र 2018-21 के है सभी छात्र

-sponsored-

रोहतास : शांति प्रसाद जैन कॉलेज परिसर में बीसीए के छात्र-छात्राओं ने दिया धरना

सिटी पोस्ट लाइव : सासाराम स्थित शांति प्रसाद जैन कॉलेज के बीसीए विभाग के छात्र-छात्राओं का समय से रजिस्ट्रेशन ना होने के कारण सभी लोग काफी नाराज हैं। छात्रों ने बताया कि हम लोगों ने अपना रजिस्ट्रेशन सत्र 2018-21 के लिए कराया था लेकिन अब तक हम लोगों का रजिस्ट्रेशन नहीं लिया गया है। छात्रों का कहना है कि हमलोगों से यह कहा गया था कि कॉमर्स तो हो या साइंस सभी लोग बीसीए कर सकते हैं। लेकिन अब यह कहा जा रहा है कि सिर्फ साइंस के लोग ही बीसीए कर सकते हैं।

Also Read

-sponsored-

हम लोग का रजिस्ट्रेशन कॉमर्स के स्टूडेंट बताकर रद्द कर दिया गया है। छात्रों ने बताया कि अगर हम लोग का रजिस्ट्रेशन 5 दिन के अंदर नहीं होता है तो यह प्रदर्शन भीषण प्रदर्शन के रूप में परिवर्तित हो जाएगा। एसपी जैन कॉलेज के छात्रसंघ अध्यक्ष प्रमोद कुमार ने बताया कि छात्र-छात्राओं का रजिस्ट्रेशन समय से ना होने के कारण कई वर्ष बर्बाद हो जा रहे हैं। श्री कुमार ने बताया कि प्रचार्य को लिखित आवेदन देकर जल्द से जल्द बीसीए डिपार्टमेंट का रजिस्ट्रेशन कराने का मांग किया गया है।

वही इस मामले में कॉलेज के प्रचार्य गुरुचरण सिंह ने कहा कि बीसीए डिपार्टमेंट में 2004 से कमर्स के छात्र-छात्राओं का नामांकन तथा रजिस्ट्रेशन होते आ रहा है लेकिन इस वर्ष से रोक दिया गया है। छात्र-छात्राओं की मांग पर वीर कुंवर सिंह यूनिवर्सिटी के कुलपति को लिखित आवेदन दिया गया है लेकिन अब तक कोई भी जवाब नहीं आया है। वहां से जैसा भी निर्देश आता है उसके आधार पर आगे की करवाई की जाएगी। इस धरना प्रदर्शन में सलोनी कुमारी, आंचल कुमारी, श्वेता कुमारी, कुंदन सिंह, रोहित कुमार, अंकित कुमार, सनी राज, आदित्य कुमार, जुनैद खान के साथ दर्जनों छात्र छात्राओं ने हिस्सा लिया।

रोहतास से विकाश चन्दन की रिपोर्ट

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.