By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

भूलकर भी न करें इस तरह के मैसेज का रिप्लाई, वरना खाली हो जाएगा आपका बैंक अकाउंट

- sponsored -

अगर आप भी उनमें से हैं जिनको Income Tax Return से संबंधित कोई मैसेज आता है तो आपको थोड़ी सावधानी बरतने की आवश्यकता है क्योंकि यह फ्रॉड भी हो सकता है और इसकी वजह से आपका Bank Account खाली हो सकता है.

-sponsored-

भूलकर भी न करें इस तरह के मैसेज का रिप्लाई, वरना खाली हो जाएगा आपका बैंक अकाउंट

सिटी पोस्ट लाइव : अगर आप भी उनमें से हैं जिनको Income Tax Return से संबंधित कोई मैसेज आता है तो आपको थोड़ी सावधानी बरतने की आवश्यकता है क्योंकि यह फ्रॉड भी हो सकता है और इसकी वजह से आपका Bank Account खाली हो सकता है. बता दें कि कंप्यूटर और मोबाइल प्रोटेक्शन सॉफ्टवेयर बनाने वाली एक कंपनी ने कहा है कि इस तरह के मैसेज साइबर क्रिमिनल्स द्वारा भेजे जाते हैं. दरअसल Bank Fraud के लिए Income Tax Refund से संबंधित मैसेज भेजा जाता है जिसके ज़रिए आपसे Bank Detail हासिल करने की कोशिश की जाती है. ऐसे Fraud Messages का रिप्लाई न करें. इस संबंध में Quick Heal Technologies ने बताया कि जैसे ही आप बैंक डिटेल को एंटर करते हैं ये सारी जानकारी क्रिमिनल्स आपसे हासिल कर लेते हैं.

Bank Detail हासिल करके ट्रांसफर कर लेते हैं पैसे

Also Read

-sponsored-

दरअसल आपसे बैंक डिटेल हासिल करने के लिए आपके नंबर पर एक मैसेज भेजा जाता है जिसमें गलत अकाउंट नंबर दिया होगा और आपसे कहा जाएगा कि अगर यह सही नहीं है तो सही अकाउंट नंबर अपडेट कर दीजिए. इस मैसेज में नीचे एक फर्जी लिंक भी दिया होगा. आपको बता दें कि इस लिंक पर जैसे ही आप क्लिक करेंगे तब आप इनकम टैक्स की साइट जैसी दिखने वाली फ्रॉड साइट पर आप पहुंच जाएंगे. जी हां, दरअसल पुणे स्थित Quick Heal Technologies ने बताया कि जैसे ही आप बैंक डिटेल को एंटर करते हैं ये सारी जानकारी क्रिमिनल्स आपसे हासिल कर लेते हैं. इसके बाद फर्जी आई-टी डिपार्टमेंट एम्प्लॉई बनकर टैक्सपेयर को फोन करते हैं.

रिफंड अमाउंट का देते हैं लालच

मालूम हो कि ये जालसाज कॉल कर टैक्सपेयर को अनियमित आईटी रिटर्न का हवाला देते हुए फाइन भरने के लिए कहते हैं. दरअसल इसके बाद बड़ी चालाकी से ये जालसाज आई-टी डिपार्टमेंट वेबसाइट के असली लॉगइन डीटेल के जरिए अपने शिकार के खाते से पैसों को अपने अकाउंट में ट्रांसफर कर लेते हैं. बता दें कि इतना ही नहीं ये साइबर क्रिमिनल अकाउंट की डीटेल जैसे फोन नंबर, ईमेल आईडी को भी बदल देते हैं.

इस तरह करें बचाव

दरअसल ऐसे फर्जी मेसेज को फोन के इनबॉक्स में आने से तो नहीं रोका जा सकता, लेकिन अगर कुछ सावधानी बरत ली जाए तो ऐसी ठगी से बचा जरूर जा सकता है. बता दें कि क्वीक हील ने इस संबंध में बताया कि ऐसे मेसेज आने पर किसी भी टैक्सपेयर को अपनी फाइनैंशियल डीटेल नहीं देनी चाहिये. फाइनैंशियल डीटेल जैसे बैंक अकाउंट नंबर, पिन और ओटीपी आदि. बता दें कि ऐसे फर्जी मेसेज में दिए गए लिंक या किसी अटैचमेंट को भी तब तक न क्लिक करें जब तक आप उस मेसेज के को लेकर कन्फर्म न हो जाएं.

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.