By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

फिल्म इंडस्ट्री की कुछ अनसुनी बातें, मोहम्मद रफी के सामने लता ने रखी ये डिमांड…

;

- sponsored -

फिल्म इंडस्ट्री में मोहम्मद रफी जैसा गायक आज तक नहीं देखा गया.उनकी बेमिसाल गायकीवसालीन अंदाज का हर कोई दीवाना था. रफी साहब की जादुई आवाज आज भी लोगों के कानों में गूंजती हैं.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

फिल्म इंडस्ट्री की कुछ अनसुनी बातें, मोहम्मद रफी के सामने लता ने रखी ये डिमांड…

सिटी पोस्ट लाइव : फिल्म इंडस्ट्री में मोहम्मद रफी जैसा गायक आज तक नहीं देखा गया. उनकी बेमिसाल गायकी वसालीन अंदाज का हर कोई दीवाना था. रफी साहब की जादुई आवाज आज भी लोगों के कानों में गूंजती हैं. रफी साहब की पुण्यतिथि पर हम आपको उनके बारे में कुछ ऐसी अनसुनी बातें बताते हैं जिससे पता चलता है कि वो एक लाजवाब इंसान थे. मोहम्मद रफी ने 10 वर्ष की आयु में ही गायकी प्रारम्भ कर दी थी. उन्होंने अपने ज़िंदगी से कई लोगों को प्रभावित किया. लोगों का मानना था कि रफी की आवाज शम्मी कपूर पर सबसे ज्यादा फबती थी. लेकिन रफी के फेवरेट एक्टर राजेंद्र कुमार थे. वो उन्हें टीवी पर देखकर खो से जाते थे.

रफी को म्यूजिक से ज्यादा किसीवसे प्यार नहीं था.जब भारत-पाकिस्तान का विभाजन हुआ था तब उनकी पहली पत्नी ने हिंदुस्तान में रुकने से इन्कार कर दिया था. लेकिन रफी ने म्यूजिक के लिए मुंबई में रहने का निर्णय किया व अपनी पत्नी से अलग हो गए. मोहम्मद रफी ने कभी भी पैसों के लिए नहीं गाया.वो गाना गाकर आ जाते थे व उन्हें पता भी नहीं होता था कि उन्हें कितनी फीस मिलने वाली है. रफी साहब ने एक रुपए फीस लेकर भी गाना गाया है. इसके अतिरिक्त मोहम्मद रफी दिल के धनी थे.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

एक बार उन्होंने अपनी कालोनी में एक विधवा को देखा.जो आर्थिक तंगी से जूझ रही थी.इसके बाद रफी ने उन्हें पोस्ट ऑफिस से एक अंजान शख्स बनकर हर महीने पैसे भेजना प्रारम्भ कर दिए थे. एक बार उस दौर में लता मंगेशकर जैसे कई बड़े कलाकारों ने अपनी फीस बढ़ाने की मांग करनाप्रारम्भकर दी थी.इस बात से रफी साहबबहुत ज्यादानाराज हो गए व उन्होंने लता मंगेशकर के साथ कभी कार्य ना करने का निर्णय किया था. मन्ना डे के मुताबिक, किशोर कुमार व मोहम्द रफी बहुत अच्छे दोस्त थे. जब रफी का निधन हुआ था तब किशोर कुमार घंटों उनके पैरों के पास बैठकर रोते रहे थे. रफी के गुजर जाने पर दो दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया था.

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.