By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

बाढ़ से बिहार में तबाही देख मदद को आगे आए विराट और अनुष्का शर्मा

;

- sponsored -

बिहार के 10 जिलों में बाढ़ से भयंकर तबाही मची हुई नेपाल और उत्तर बिहार में भारी बारिश (Heavy rains in Nepal and North Bihar) के कारण 12 जिले की 40 लाख आबादी भीषण बाढ़ (Flood) की चपेट में हैं.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव  : बिहार के 10 जिलों में बाढ़ से भयंकर तबाही मची हुई नेपाल और उत्तर बिहार में भारी बारिश (Heavy rains in Nepal and North Bihar) के कारण 12 जिले की 40 लाख आबादी भीषण बाढ़ (Flood) की चपेट में हैं. प्रदेश के सीतामढ़ी, शिवहर, सुपौल, किशनगंज, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, पूर्वी चम्पारण, पश्चिम चंपारण, खगडिया, सारण एवं समस्तीपुर जिले के 102 प्रखंडों के 901 पंचायतों की 38,47,531 आबादी बाढ़ से प्रभावित हुई है.

आलम ये है कि जरूरत के सामान भी इन्हें उपलब्ध नहीं हो पा रहे हैं. यह तस्वीर देश भर के लोगों को विचलित कर रही है.इस क्राइसिस में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) और अनुष्का शर्मा (Anushka Sharma) आगे आए हैं.स्टार क्रिकेटर विराट कोहली ने अपने ट्वीट में लिखा, कोरोना महामारी के बीच बिहार और असम में लोग बाढ़ से भी जुझ रहे हैं. इस संकट की घड़ी से लोगों को निकालने के लिए मैं और अनुष्का प्रर्थना करते हैं और इसकी सहायता करने वाली संस्थाओं की हम मदद करेंगे.

गौरतलब है कि बिहार में गंगा के अलावा लखनदेई, रातो, मरहा, मनुसमारा, बागमती, कमला बलान, अधवारा, गंडक, बूढ़ी गंडक, कदाने, नून, वाया, सिकरहना, लालबेकिया, तिलावे, धनौती, मसान, कोसी एवं करेह नदी के जलस्तर बढना जारी है. बागमती नदी सीतामढी, मुजफ्फरपुर एवं दरभंगा में, बूढी गंडक नदी मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर एवं खगडिया में, कमला बलान नदी मधुबनी में, गंगा नदी भागलपुर में, अधवारा नदी सीतामढी में, खिरोई दरभंगा में और महानंदा नदी पूर्णिया में मंगलवार को खतरे के निशान से उपर है.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को भी बाढ़ और कोरोना को लेकर अधिकारियों के साथ वर्चुअल मीटिंग की थी.उन्होंने उन्हें कोशी आपदा की तरह इसबार भी बाढ़ पीड़ितों की हर संभव मदद करने का निर्देश दिया.उन्होंने कहा कि कोशिई आपदा में जिस तरह से मेगा राहत शिविर लगाया गया था और लाखों लोगों को हर तरह की मदद दी गई थी, उसी तर्ज पर इसबार भी मदद होनी चाहिए.मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी तो ये शुरुवात है. अगस्त और सितम्बर महीने में बाढ़ और भी तबाही मचा सकती है.उन्होंने अगस्त और सितम्बर महीने में संभावित बाढ़ की रुपरेखा का ध्यान रखते हुए राहत बचाव कार्य की तैयारी करने का निर्देश दिया है.

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.