By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

दिन में ज्यादा नींद आती है तो हो जाएं सावधान! ये है नारकोलेप्सी के लक्षण

;

- sponsored -

नारकोलेप्सी के मरीज को रैम यानी रैपिड आई मूवमेंट वाली नींद ज्यादा होती है, जिसमें सपने आते हैं, मस्तिष्क सक्रिय रहता है और मरीज को पूरी नींद के बाद भी नींद की कमी महसूस होती है.यह कई कारणों के मेल से होने वाली बीमारी है. 25 की उम्र के बीच होती है और वक्त के साथ बीमारी बढ़ती जाती है.

-sponsored-

-sponsored-

दिन में ज्यादा नींद आती है तो हो जाएं सावधान! ये है नारकोलेप्सी के लक्षण

सिटी पोस्ट लाइव :जब  कोई काम करते हुए अचानक सो जाए. किसी से बातचीत के बीच एकाएक नींद आ जाए या सबसे मुश्किल बात कि कोई ड्राइव करते हुए सो जाए तो सावधान हो जाइए. यह नींद की कमी, कमजोरी या आलस नहीं है, बल्कि तंत्रिका संबंधी बीमारी नारकोलेप्सी है.नारकोलेप्सी के मरीज को रैम यानी रैपिड आई मूवमेंट वाली नींद ज्यादा होती है, जिसमें सपने आते हैं, मस्तिष्क सक्रिय रहता है और मरीज को पूरी नींद के बाद भी नींद की कमी महसूस होती है.

यह कई कारणों के मेल से होने वाली बीमारी है. अधिकतर मामले मस्तिष्क में एक न्यूरोकेमिकल हाइपोक्रीटिन की कमी के कारण सामने आते हैं, जो कि नींद और जागृत अवस्था पर नियंत्रण करता है. कई ऐसे मामले भी सामने आए हैं, जिनमें एच1एन1 विषाणु यानी स्वाइन फ्लू के विषाणुओं के संक्रमण के बाद मरीज को नारकोलेप्सी की शिकायत हुई. यह बीमारी आनुवंशिक भी होती है. कमजोर रोगप्रतिरोधक क्षमता भी नारकोलेप्सी के लिए अनुकूल परिस्थितियां पैदा करती है, इसलिए कुपोषित किशोरों या युवाओं में इसकी आशंका अधिक है.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

इसके लक्षणों की शुरुआत किशोरावस्था से लगभग 25 की उम्र के बीच होती है और वक्त के साथ बीमारी बढ़ती जाती है. दिन के समय बार-बार नींद आना, बिना संकेत, कभी भी, कहीं भी सो जाना इस बीमारी के लक्षण हैं. यह नींद कुछ मिनटों से लेकर लगभग आधे घंटे की हो सकती है. उठने के थोड़ी देर बाद ही मरीज को दोबारा नींद आ जाती है.

 मांसपेशियों से एकाएक नियंत्रण खोना- यह स्थिति कैटाप्लेक्सी कहलाती है, जिसमें शरीर की लगभग सारी मांसपेशियां थोड़ी देर के लिए शिथिल हो जाती हैं. हकलाना, मरीज का एकाएक गिर जाना या सिर का लगातार हिलना जैसी बातें दिखाई पड़ती हैं. आमतौर पर यह किसी तीव्र भावना जैसे हंसी, गुस्सा आदि के दौरान होता है.

 स्लीप पैरालिसिस- नींद के एपिसोड से ठीक पहले कई बार मरीज चलने, बोलने या कुछ भी करने में असमर्थ हो जाता है. यह अवस्था भी कुछ सेकंड्स से लेकर कुछ मिनटों तक चलती है.- इन लक्षणों के अलावा नारकोलेप्सी से प्रभावित व्यक्ति को मतिभ्रम, ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया एवं रेस्टलेस लेग सिंड्रोम जैसी परेशानियां भी हो सकती हैं. कई बार काम करते हुए मरीज को नींद आ जाती है और नींद में ही वह काम करने का अभिनय करने लगता है, जो कि उसके लिए जानलेवा भी हो सकता है.खाना बनाते या गाड़ी चलाते हुए स्लीप अटैक आने से मरीज की जान पर बन आती है.

यह बीमारी जेनेटिक होती है लेकिन हर पीढ़ी में रोग की तीव्रता घटती-बढ़ती रहती है, जबकि किसी पीढ़ी में रोग नहीं के बराबर भी हो सकता है. रोग की पहचान के तरीकों में ओवरनाइट स्लीप स्टडी और कंप्लीट स्लीप स्टडी होती है ताकि बीमारी की गंभीरता का आकलन किया जा सके व देखा जा सके कि मरीज को नारकोलेप्सी से जुड़ा हुआ कोई अन्य स्लीप डिसऑर्डर तो नहीं. इसी आधार पर इलाज किया जाता है, जिसके तहत मरीज की नींद को नियंत्रित करते हैं. कई बार कुछ स्टिमुलेटिंग एजेंट्स भी दिए जाते हैं ताकि मरीज दिन के समय सक्रिय रह सके. अगर ये लक्षण आप में या आपके किसी दोस्त में दिखे तो तुरत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए.

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.