By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

इस होटल में खून से बनती है मिठाई, ब्लड पुडिंग के नाम से प्रचलित

Above Post Content

- sponsored -

ताइवान में ब्लड पुडिंग को झु झ़ी गाओ कहा जाता है, जो और भी ज्यादा शानदार होता है. ये चावल के साथ सुअर का उबला हुआ खून, मूंगफली के पाउडर का स्वादिष्ट मिश्रण है जो लकड़ी की एक छोटी-सी स्टिक पर सर्व किया जाता है.

Below Featured Image

-sponsored-

इस होटल में खून से बनती है मिठाई, ब्लड पुडिंग के नाम से प्रचलित

सिटी पोस्ट लाइव : क्या आपने कभी खून से बनी हुई कोई डिश खाई है. अगर नही खाई है तो इसका मतलब आप ब्लड पुडिंग नाम के किसी डिश के बारे में जानते भी नही होंगे. चलिए आपको बताते है दुनियाभर में पसंद की जानेवाली कुछ ऐसे डिशों के बारे में जो खून से बनता है. ब्रिटेन की लोकप्रिय मिठाई ब्लैक पुडिंग ताजे खून से बनाई जाती है. इसमें 95 प्रतिशत खून होता है. इसे आप पसंद भी कर सकते है और नफरत भी. ताइवान में ब्लड पुडिंग को झु झ़ी गाओ कहा जाता है, जो और भी ज्यादा शानदार होता है. ये चावल के साथ सुअर का उबला हुआ खून, मूंगफली के पाउडर का स्वादिष्ट मिश्रण है जो लकड़ी की एक छोटी-सी स्टिक पर सर्व किया जाता है.

दक्षिण पूर्व एशिया और चीन के हिस्सों में आप ज़्यु दोफ़ु का मज़ा ले सकते हैं. लाल रंग तोफ़ु खून का बना होता है, जो या तो बत्तख का होता है या मुर्गे का. आपको कौन सा खाना है ये आपकी मर्जी पर है. थाईलैंड में नम तोक नामक डिश नूडल सूप है जिसे गाय या सूअर के कच्चे ख़ून के साथ सर्व किया जाता है. यदि आप ये सोचते है कि भारत मे खून से बनी हुई डिशेज नही मिलती तो आप बिल्कुल गलत सोच रहे है. तमिलनाडु में भेड़ के बच्चे के खून को गरम तेल में निकाला जाता है और फिर आपकी पसंद के हिसाब से उसी तेल में डिश तैयार होता है.

Also Read
Inside Post 3rd Paragraph

-sponsored-

वही वियतनाम का लोकप्रिय सूप बो ह्यु के बारे में तो आपने सुना ही होगा ,बो ह्यू चावल और सुअर के ख़ून से बना होता है. दुनिया भर में घुमंतू जनजातियों के बीच रक्तपात की एक आम प्रथा है- पोषक तत्वों के लिए किसी जानवर को बिना मारे उसके ख़ून का थोड़ा सा उसके शरीर से निकलना. उप-सहारा अफ़्रीका में अभी कई जनजातियां हैं जो मवेशिया का रक्तपात करती हैं. जैसे कीनिया के मसाई जनजाति और दक्षिण-पश्चिमी इथियोपिया के मैदानों में सूरी जनजाति. रक्त को निकालने और पीने से पहले गाय के गले को छेद दिया जाता है. मवेशियों को मारे बिना ये ऊर्जा हासिल करने का एक प्रभावी तरीक़ा माना जाता है.

मोनालिसा झा की रिपोर्ट

Below Post Content Slide 4

-sponsered-

-sponsored-

Comments are closed.