By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

भाई-बहन का रिश्ता हुआ शर्मसार,संपति खातिर भाई ने बहन को पिलाया पेशाब

;

- sponsored -

जब अपना ही अपने को प्रताड़ित करने लगे तो फिर विश्वास की नींव टूट जाती है. मतलब जब रिश्तेदार ही रिश्ते को तार -तार करने लगे वो भी सम्पति की खातिर तो फिर उसकी दुनिया ही ख़त्म हो जाती है.कुछ ऐसी घटना बिहार के अररिया जिले की है जिसने सबके रोंगटे खड़े कर दिए. यहां एक भाई ने पत्नी के साथ मिलकर संपत्ति हड़पने के लिए बहन को चार दिनों तक बिना खाना दिए,

-sponsored-

-sponsored-

भाई-बहन का रिश्ता हुआ शर्मसार,संपति खातिर भाई ने बहन को पिलाया पेशाब

सिटी पोस्ट लाइव- जब अपना ही अपने को प्रताड़ित करने लगे तो फिर विश्वास की नींव टूट जाती है. मतलब जब रिश्तेदार ही रिश्ते को तार -तार करने लगे वो भी सम्पति कि खातिर तो फिर उसकी दुनिया ही ख़त्म हो जाती है. कुछ ऐसी घटना बिहार के अररिया जिले की है जिसने सबके रोंगटे खड़े कर दिए. यहां एक भाई ने पत्नी के साथ मिलकर संपत्ति हड़पने के लिए बहन को चार दिनों तक बिना खाना दिए, भूखे प्यासे, हाथ-पैर बांधकर घर में बंधक बनाकर रखा और पानी पिलाए जाने के नाम पर पेशाब पिलाया.

घटना अररिया जिले भागकोहलिया पंचायत के लबाना टोली की है. यहां भाई और भाभी ने मिलकर लड़की को मकान की दूसरी मंजिल पर एक कमरे में कैद कर रखा था. इस दौरान उसे खाने के लिए कुछ नहीं दिया और बुरी तरह पीटा गया. जिससे वो बेहोश हो गई. रिश्तों की सारी हदें तो तब पार हो गई जब होश में आने पर पीड़ित लड़की ने पानी मांगा तो उसे पेशाब पिला दिया गया. गुरुवार को गांव वालों ने घर वालों की गिरफ्त से लड़की को मुक्त कराया.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

लड़की को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. पीड़ित लड़की ने थाने में दी अपनी शिकायत में कहा कि उसके माता-पिता की मृत्यु हो चुकी है. उसका भाई और भाभी संपत्ति हड़पने के लिए उसे घर से भगाना चाहते हैं, इसलिए प्रताड़ित किया जा रहा है.भाई मेरी शादी भी नहीं कराना चाहता. वहीं, भाई रुस्तम ने कहा कि उसकी बहन दिगाम से पागल है और उसके सारे आरोप गलत हैं. फिलहाल पुलिस ने मामले की जांच कर रही है.

बता दें कि यह कोई पहली घटना नहीं है जहा सम्पति के लिए इस तरह के घिनौना काम किया गया हो.ऐसी ख़बरें लगातार आती रहती हैं. आज भी समाज में ऐसी धारणाएं हैं कि बेटी पराई होती है. वे बेटियों और बेटों में फर्क समझकर उनके साथ भेद-भाव करते हैं.

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.