By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

आज से बिहार के थानों में लागू हो गई है नई व्यवस्था जानिए क्या हुआ है बदला…

;

- sponsored -

कानून-व्यवस्था और अनुसंधान की जिम्मेदारी में किसी तरह की कोई दिक्कत न हो इसके लिए थानों में दो अपर प्रभारी होंगे. एक अनुसंधान तो दूसरा कानून-व्यवस्था देखेगा. इनकी तैनाती कर दी गई है. थाने में मौजूद पुलिस अधिकारियों के बीच भी काम का बंटवारा कर दिया गया है.

[pro_ad_display_adzone id="49226"]

-sponsored-

आज से बिहार के थानों में लागू हो गई है नई व्यवस्था जानिए क्या हुआ है बदला…

 सिटी पोस्ट लाइव : बिहार के थानों में आज 15 अगस्त से पूरी व्यवस्था बदल गई है. आज से थानों के माहौल में बदलाव् दिखेगा. पुलिसिंग में भी बड़ा  बदलाव दिखेगा. सूबे के 994 थानों में आज से पुलिस की दो टीम नजर आएगी. पहली टीम कानून-व्यवस्था संभालेगी तो दूसरे के जिम्मे अनुसंधान का काम होगा. थानों में थानाध्यक्ष के अलावे दो अपर थानाध्यक्ष भी होंगे.साथ हीं एक मालखाना प्रभारी भी होगा. बिहार के बड़े अनुमंडल में  सहयाक एसडीपीओ की भी तैनाती होनी है.हालांकि सरकार ने अबतक सहायक एसडीपीओ की तैनाती नहीं की है.संभावना है कि शुक्रवार यानि 16 अगस्त तक वैसे बड़े अनुमंडलों में सहयाक एसडीपीओ की तैनाती हो जाएगी.

स्वतंत्रता दिवस से हीं पुलिस जोन को खत्म कर दिया गया है.अब सिर्फ रेंज ही रह जाएंगे.बड़े रेंज में आईजी और छोटे रेंज में डाईजी की पोस्टिंग कर दी गई है.गौरतलब है कि पुलिसिंग को चुस्त-दुरुस्त करने के लिए नीतीश सरकार ने कई बदलाव किए हैं.सभी बदलवा को आज यानि स्वतंत्रता दिवस से प्रभावी बनाने का निर्णय लिया गया था. बिहार में 1074 थाने हैं जिअने में से अनुसूचित जाति एवं जनजाति और महिला थानों की संख्या 80 है. इन थानों में सिर्फ अनुसंधान का काम होता है लिहाजा इनमें कार्य बंटवारे का कोई मतलब नहीं है. बचे हुए 994 थानों में कानून-व्यवस्था और अनुसंधान देखने के लिए दो अलग-अलग टीमें बनाई गई हैं. दोनों टीमें आज यानि गुरुवार से अपनी-अपनी जिम्मेदारियां संभालेंगी.

Also Read
[pro_ad_display_adzone id="49171"]

-sponsored-

कानून-व्यवस्था और अनुसंधान की जिम्मेदारी में किसी तरह की कोई दिक्कत न हो इसके लिए थानों में दो अपर प्रभारी होंगे. एक अनुसंधान तो दूसरा कानून-व्यवस्था देखेगा. इनकी तैनाती कर दी गई है. थाने में मौजूद पुलिस अधिकारियों के बीच भी काम का बंटवारा कर दिया गया है.सरकार द्वारा 50-50 प्रतिशत बल को दोनों इकाइयों में रखने के आदेश दिए गए हैं पर स्थानीय जरूरतों के मुताबिक 75 प्रतिशत तक अनुसंधान और 25 प्रतिशत पुलिस अधिकारी कानून-व्यवस्था के काम में लगाए जा सकते हैं.

थाना प्रभारी और सर्किल इंस्पेक्टर के पद पर अब दागदार अधिकारी तैनात नहीं होंगे. पुलिस मुख्यालय के आदेश पर ऐसे 384 पुलिस अधिकारियों की छुट्टी 8 अगस्त तक कर दी गई थी. भविष्य में भी अब इन पदों पर सरकार के मापदंड में फिट नहीं बैठने वाले पुलिस अधिकारियों को तैनात नहीं किया जाएगा.

जोनल आईजी के पद को समाप्त कर दिया गया है. इनकी जगह सिर्फ रेंज ही रहेगा. पटना, भागलपुर, दरभंगा और मुजफ्फरपुर को जोन की जगह पुलिस रेंज में बदल दिया गया है. बेगूसराय नया पुलिस रेंज बनाया गया है. यह आदेश भी आज से लागू हो गई है.

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.