By, Shrikant Pratyush
News 24X7 Hour

बीपीसीएल के पीओएल टर्मिनल-निर्माण में ग्रामीणों का विरोध

;

- sponsored -

भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) द्वारा राधानगर गांव में बनाये जा रहे पीओएल (पेट्रोलियम आयल लुब्रिकेन्ट) टर्मिनल के निर्माण में वहां के रैयतों का विरोध लगातार दिख रहा है।

-sponsored-

-sponsored-

बीपीसीएल के पीओएल टर्मिनल-निर्माण में ग्रामीणों का विरोध

सिटी पोस्ट लाइव, बोकारो: भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) द्वारा राधानगर गांव में बनाये जा रहे पीओएल (पेट्रोलियम आयल लुब्रिकेन्ट) टर्मिनल के निर्माण में वहां के रैयतों का विरोध लगातार दिख रहा है। इसी क्रम में बुधवार को उन्होंने कम्पनी के लोगों द्वारा कराये जा रहे काम को रोक दिया। लोगों ने कंपनी की जेबीसी मशीन को घेरकर वहीं प्रशासन व प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। उनका कहना है कि जिस जगह पर आयल डिपो बनाया जा रहा हैउस पर उनका मालिकाना हक है। इस संबंध में ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री को भी पत्र भेजा है, जिसमें उनलोगों का कहना है कि प्रशासन ने उनकी जमीन बीपीसीएल को दे दी हैलेकिन न तो प्रशासन की तरफ से मुआवजा दिया गया है और न ही बीपीसीएल की तरफ से दिलवाया जा रहा है। इसी बात को लेकर ग्रामीणों ने विरोध करते हुए काम को रुकवा दिया। घंटों हंगामे के दौर चलता रहा। बाद में प्रशासनिक हस्तक्षेप से मामला शांत कराया गया। उल्लेखनीय है कि बीपीसीएल द्वारा राधानगर में 77.5 एकड़ भूमि पर ढ़ाई सौ करोड़ रुपये की लागत से पीओएल टर्मिनल का निर्माण कराया जा रहा है। बीते 11 अगस्त को ही मुख्यमंत्री रघुवर दास तथा केन्द्रीय पेट्रोलियमप्राकृतिक गैस व इस्पातमंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने इसका शिलान्यास किया था।

-sponsered-

;

-sponsored-

Comments are closed.