City Post Live
NEWS 24x7

IGIMS-PMCH में रविवार को नहीं होती एंजियोग्राफी-एंजियोप्लास्टी.

चिकित्सकों और मैनपावर की कमी की वजह से हार्ट अटैक के मरीजों का सिर्फ दवा से होता है इलाज.

-sponsored-

- Sponsored -

-sponsored-

सिटी पोस्ट लाइव : हार्ट के मरीजों के लिए जरुरी सूचना .अगर आपको  रविवार को हार्ट अटैक आता है या सीने में दर्द की शिकायत होती है  तो वह इंदिरा गांधी हृदय रोग संस्थान या पीएमसीएच जाने से बचे. यहाँ पर एंजियोग्राफी और टेंपरोरी एंजियोप्लास्टी करनी की  सुविधा रविवार को नहीं मिलेगी. सिर्फ दवा से ही मरीज का इलाज होगा. आईजीआईसी की कैथ लैब में रविवार को स्पेशलिस्ट नहीं रहने के कारण मरीजों को यह सुविधा नहीं मिल पाती है. यहां सोमवार से शनिवार तक रोज  10-11 मरीजों की एंजियोग्राफी और दो-तीन की एंजियोप्लास्टी होती है.

 

रविवार को इतने ही मरीजों को  निजी अस्पतालों का चक्कर लगाना पड़ता है. पीएमसीएच में तीन माह पहले ही कैथ लैब की व्यवस्था हुई है. यहां भी एंजियोग्राफी और एंजियोप्लास्टी की सुविधा मिलने लगी है. लेकिन, आईजीआईसी की तरह यहां भी रविवार को एंजियोग्राफी की सुविधा नहीं मिलती है. यहां भी टेक्नीशियन की कमी  है. विभाग के चिकित्सक का कहना है कि टेक्नीशियन मिल जाने पर काम अधिक किया जा सकता है.आईजीआईसी में पिछले साल ही करीब 535 करोड़  की लागत से 10 मंजिली बिल्डिंग बनकर तैयार हुई. इससे 125 बेड बढ़ गए. एक पेसमेकर लैब, सीटी एनजीओ लैब और दो ओटी भी बनाए गए हैं. लेकिन, मैनपावर की कमी है.

 

यहाँ चिकित्सक समेत कुल 864 पद स्वीकृत हैं, जिनमें 416 खाली हैं.14 की जगह महज 6 डीएम कार्डियोलॉजी चिकित्सक ही कार्यरत हैं. संयुक्त निदेशक एनेस्थेसिया, संयुक्त निदेशक पेडिएट्रिक कार्डियोलॉजी, सहायक निदेशक सर्जिकल कार्डियोलॉजी के 11 पद स्वीकृत हैं, जिनमें नौ खाली हैं. ए-ग्रेड नर्सों के 34 और ईको टेक्नीशियन के छह पद खाली हैं. अस्पताल अधीक्षक का भी पद भी रिक्त है. मेडिकल अफसर के 11 पद स्वीकृत हैं और सभी खाली हैं.आईजीआईएमएस के कार्डियोलॉजी विभाग के हेड डॉ. रवि विष्णु व डॉ. नीरव कुमार के मुताबिक, हार्ट अटैक आने पर दो घंटे गोल्डन ऑवर माना जाता है. इस दौरान इलाज शुरू हो जाए, तो जान बचने की संभावना रहती है. देर होने  पर खतरा रहता है.

 

संस्थान में एंजियोग्राफी के लिए 5500 रुपए लिए जाते हैं, जबकि प्राइवेट में 15-16 हजार खर्च होते हैं. एंजियोप्लास्टी के लिए प्राइवेट में 1.5 लाख से दो लाख रुपए खर्च होते हैं, जबकि आईजीआईएमएस में महज 50 हजार रुपए.आईजीआईएमएस में शनिवार और रविवार को सिर्फ इमरजेंसी केस डील किया जाता है. यानी, शनिवार या रविवार को हार्ट अटैक का कोई मरीज आता है तो सब कुछ छोड़कर उसे सीधे कैथ लैब में शिफ्ट कर दिया जाता है. मरीजों की जरूरत के अनुसार एंजियोग्राफी और एंजियोप्लास्टी की जाती है.

-sponsored-

- Sponsored -

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news, updates and special offers delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time

-sponsored-

Comments are closed.