City Post Live
NEWS 24x7

मंडप में पहुंचे दूल्हे का साली प्रेम उजागर, लेने पड़े फेरे.

शादी के मंडप में दुल्हे को आया साली का फोन तो हुआ हंगामा, फिर उसी संग लेने पड़े फेरे.

- Sponsored -

-sponsored-

- Sponsored -

सिटी पोस्ट लाइव : शादी के मंडप में ही जीजा-साली का प्रेम उजागर हो गया.फिर क्या था जीजा को साली के साथ ही व्याह रचाना पड़ा. छपरा शहर के बिनटोली निवासी जगमोहन महतो के पुत्र राजेश कुमार की बारात भभौली गांव पहुंची थी. दुल्हन रिंकू कुमारी के पिता रामु बिन अपने दरवाजे पर श्रद्धा व क्षमता के अनुसार बारातियों का स्वागत कर रहे थे. बैंड बाजे के साथ हंसी खुशी द्वारपूजा की रस्म भी पूरी हो गई. इससे आगे सैकड़ों लोगों की मौजूदगी में जयमाला की प्रक्रिया भी पूरी कर ली गई. इसके बाद रात के लगभग ग्यारह बजे आंगन में कन्या निरीक्षण का दौर चल ही रहा था कि दुल्हन की छोटी बहन पुतुल कुमारी चुपके से छत पर चढ़ गई और छत से ही दूल्हे राजा को मोबाइल से फोन करके धमकी दी कि यदि आप मेरे साथ शादी नही करेंगे तो मैं छत से कूदकर अपनी जान दे दूंगी.

मौके की नजाकत को देखते हुए दूल्हे राजा ने आनन फानन में कन्या निरीक्षण से अपने परिजनों व रिश्तेदारों को जनवासे में वापस बुला लिया. इस दौरान जनवासा में दोनों पक्ष के लोग आर्केस्ट्रा देखने में मशगूल थे. अचानक से बारातियों की अजीबोगरीब हरकत देख कर अचानक जनवासे में पहुंचे घरातियों की बारातियों के साथ कहा सुनी होने लगी और बात मारपीट तक जा पहुंची और वहां भगदड़ मच गई. इसी बीच घरातियों ने दूल्हे राजा समेत रिश्तेदारों को आंगन में बंधक बनाकर लात घूसों से जमकर पीट दिया.

अफरा तफरी में भागे बारातियों ने किसी तरह घटना की सूचना मांझी थाना पुलिस को दी. इस बीच सूचना पाकर मुबारकपुर में छापेमारी करने गईं पुलिस लाइन की टीम को लेकर मांझी थाना पुलिस की टीम आ धमकी. हालात की जानकारी लेने के बाद सुबह के चार बजे पुलिस ने स्थानीय मुखिया के पति शैलेश्वर मिश्रा को मौके पर बुलाया तथा इस मामले में पहल करने का अनुरोध किया. पुलिस व परिजनों के आग्रह पर मुखिया प्रतिनिधि के अलावा बसपा नेता लक्ष्मण मांझी तथा मंजीत कुमार सिंह ने दोनों पक्ष के परिजनों व दूल्हे राजा से बात की.

बाद में दोनों पक्षों के अलावा दुल्हन ने भी अपनी छोटी बहन पुतुल कुमारी के साथ दूल्हा राजेश कुमार को शादी करने की हामी भर दी. पंचायती के बाद रस्म अदायगी के लिए पुरोहित की खोजबीन शुरू हुई. लोगों की सलाह पर मुखिया पति ने ही सिंदूर दान की रस्मअदायगी कराकर बारातियों को सकुशल विदा करा दिया.

-sponsored-

- Sponsored -

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news, updates and special offers delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time

- Sponsored -

Comments are closed.